क्या ‘बैजबॉल’ का जवाब है ‘बूमबॉल’? किस तरफ इशारा कर रही भारतीय खिलाड़ी की ये बात – India TV Hindi


Jasprit Bumrah, Rohit Sharma And Ravichandran Ashwin- India TV Hindi

Image Source : GETTY
जसप्रीत बुमराह, रोहित शर्मा और रविचंद्रन अश्विन

भारतीय टीम को इंग्लैंड के खिलाफ 5 मैचों की टेस्ट सीरीज के पहले मुकाबले में हार का सामना करना पड़ा था। इसके बाद टीम इंडिया ने दूसरे टेस्ट मैच में शानदार तरीके से वापसी करते हुए जीत हासिल करने के साथ सीरीज को अब 1-1 की बराबरी पर ला दिया है। विशाखापट्टनम टेस्ट मैच में भारतीय टीम की जीत में तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह ने सबसे अहम भूमिका अदा की जिसमें उन्होंने कुल 9 विकेट हासिल किए थे। अब उनके इस शानदार प्रदर्शन को लेकर रविचंद्रन अश्विन ने भी तारीफ की है और टेस्ट फॉर्मेट में नंबर-1 की रैंकिंग पर पहुंचने को लेकर भी बधाई दी है।

असली शो स्टीलर बूमबॉल है

इंग्लैंड की टीम इस समय टेस्ट क्रिकेट में जिस रणनीति के साथ खेल रही है उसे बैजबॉल के नाम से पहचान मिली है। वहीं अश्विन ने अपने यूट्यूब चैनल पर बुमराह की तारीफ करते हुए कहा कि असली शो तो स्टीलर बूमबॉल है। बुमराह ने इस सीरीज के शुरुआती 2 टेस्ट मैचों में शानदार प्रदर्शन किया है और अब तक कुल 15 विकेट हसिल कर चुके है। वह अब टेस्ट फॉर्मेट में भी नंबर-1 गेंदबाज बन गए हैं। मैं उनका काफी बड़ा प्रशंसक हूं औ ये उनके लिए भी एक बड़ी उपलब्धि है। सभी प्रारूपों में नंबर एक रैंकिंग हासिल करने वाले भारत के पहले तेज गेंदबाज। बता दें कि बुमराह इससे पहले वनडे और टी20 फॉर्मेट में भी नंबर-1 की कुर्सी को हासिल कर चुके हैं।

इस बार टेस्ट सीरीज उन स्थान पर हो रही है जो विश्व कप मैच का हिस्सा नहीं थे

रविचंद्रन अश्विन ने अपने बयान में इस टेस्ट सीरीज के दौरान चुने गए शहरों को लेकर भी कहा कि साल 2017 में हम आस्ट्रेलिया से धर्मशाला, रांची, पुणे और बेंगलुरु में खेले थे। आमतौर पर अगर 4-5 मैच की टेस्ट श्रृंखला होती है तो कम से कम एक या दो बड़े शहरों में होती है। लेकिन इस बार यह उन स्थान पर हो रही है जो विश्व कप मैच का हिस्सा नहीं थे। ज्यादातर भारतीय खिलाड़ियों के लिए ये स्थान नये हैं। हमारी टीम में काफी खिलाड़ी हैं जो विशाखापत्तनम में प्रथम श्रेणी या टेस्ट मैच नहीं खेले हैं। मुझे नहीं लगता कि यह किसी अन्य देश में संभव है। लेकिन भारत में ऐसा संभव है क्योंकि यहां कई टेस्ट स्थल हैं। इसलिये खिलाड़ी घरेलू मैदान से परिचित नहीं होते। वे भले ही आईपीएल, टी20 या वनडे खेले हों लेकिन लाल गेंद से खेलने से निश्चित रूप से अंतर पड़ता है।

(PTI INPUTS)

ये भी पढ़ें

बंगाल के कप्तान ने कर दी रणजी ट्रॉफी को हटाने की मांग, सोशल मीडिया पर फूटा प्लेयर का गुस्सा

ग्लेन मैक्सवेल ने तूफानी पारी खेलकर की रोहित शर्मा की बराबरी, सिर्फ इतनी गेंदों पर जड़ दिया शतक

Latest Cricket News



Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*