पाकिस्तान अपनी जिस ताकत पर इतराता है, वही डुबोएगी एशिया कप में उसकी लुटिया

[ad_1]

हाइलाइट्स

पाकिस्तान 4 साल से अपनी कमजोरी को दूर नहीं कर पाया है
बाबर आजम का एशिया कप जीतने का सपना पूरा होना मुश्किल

नई दिल्ली. इस बार एशिया कप कौन जीतेगा? ये तो फिलहाल नहीं कहा जा सकता है. क्योंकि हर टीम अपनी-अपनी जीत का दावा कर रही. पाकिस्तान की टीम भी इसमें पीछे नहीं. बाबर आजम और टीम के कई खिलाड़ी खुलकर ये कह चुके हैं हमारी गेंदबाजी सबसे मजबूत है. हमारे पास तूफानी गेंदबाजों के साथ ही अच्छे स्पिनर भी हैं और बाबर, मोहम्मद रिजवान और इमाम उल हक जैसे बल्लेबाज हैं. पाकिस्तान जिसे अपनी टीम ताकत समझ रहा है, वही उसकी सबसे बड़ी कमजोरी है. पिछले 4 साल में पाकिस्तान इस कमजोरी का कोई हल नहीं ढूंढ पाया है. एशिया कप में भी यही कमजोरी पाकिस्तान की लुटिया डुबो सकती है. आइए जानते हैं कि पाकिस्तान की आखिर वो कौन ही ताकत है, जो उसकी कमजोरी भी है.

पाकिस्तान की टीम भले ही अफगानिस्तान के खिलाफ 3 वनडे की सीरीज के पहले दो मैच जीतकर सीरीज में 2-0 की अजेय बढ़त ले ली है. लेकिन, दूसरे मुकाबले में उसकी गेंदबाजी की पोल खुल गई. अफगानिस्तान के सलामी बल्लेबाजों ने ही शाहीन अफरीदी, हारिस रऊफ और शादाब खान जैसे गेंदबाजों को विकेट के लिए तरसा दिया. पाकिस्तान को पहला विकेट ही 40वें ओवर में जाकर मिला. तब तक रहमानुल्लाह गुरबाज और इब्राहिम जादरान ने पहले विकेट के लिए 227 रन जोड़ लिए थे. इन दोनों बल्लेबाजों ने आउट होने से पहले 20 चौके और 5 छक्के उड़ाए.

अफगानिस्तान के बल्लेबाजों ने छुड़ाए पाकिस्तान के छक्के
पाकिस्तान के स्पिन गेंदबाजों शादाब खान और उसामा मीर का भी इस मैच में बुरा हाल रहा. दोनों ने मिलाकर 20 ओवर में 114 रन दिए और महज 1 विकेट ही हासिल कर पाए. इससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि पाकिस्तान अपनी गेंदबाजी पर भले ही इतराए लेकिन हकीकत में ऐसा नहीं है. खासतौर पर उसकी स्पिन गेंदबाजी तो कई फिसड्डी टीमों से भी कमजोर है.

पाकिस्तान के स्पिनर सबसे फिसड्डी
2019 के वर्ल्ड कप के बाद से अगर वनडे में अलग-अलग टीमों के स्पिन अटैक की तुलना करें तो पाकिस्तान 10 देशों में आखिरी स्थान पर है. बांग्लादेश, अफगानिस्तान जैसी टीमों का स्पिन आक्रमण पाकिस्तान से बेहतर है. वनडे में बीते 4 सालों में बांग्लादेश का स्पिन अटैक सबसे बेहतर है. बांग्लादेश के स्पिन गेंदबाजों ने पिछले विश्व कप के बाद से 45 मैच में 27.3 की औसत और 4.60 की इकोनॉमी रेट से सबसे अधिक 146 विकेट झटके हैं. इस लिस्ट में दूसरे स्थान पर अफगानिस्तान है. अफगानिस्तान के स्पिन गेंदबाजों ने बीते 4 साल में 24 मैच में 625.1 ओवर में 29.46 की औसत और 4.43 की इकोनॉमी रेट से कुल 94 विकेट हासिल किए हैं.

पाकिस्तान की ताकत ही टीम इंडिया की कमजोरी, मैच विनर पर भी गिरी गाज, एशिया कप कैसे जीतेंगे?

पाकिस्तान की जीत के बावजूद क्यों गुस्से से लाल-पीले हुए बाबर आजम? उंगली दिखाकर क्या कहना चाह रहे थे कप्तान

बांग्लादेश-अफगानिस्तान भी पाकिस्तान से आगे
पाकिस्तान के स्पिनर पिछले विश्व कप के बाद से सबसे फिसड्डी रहे हैं. 2019 के विश्व कप के बाद से पाकिस्तान के स्पिनर्स ने 29 मैच में 518.5 ओवर फेंके और 69 विकेट लिए. इकोनॉमी सबसे ज्यादा 5.42 की है और लिस्ट में टीम 10वें स्थान पर है. पाकिस्तान के स्पिन गेंदबाजों का औसत 40 के पार है. जबकि पहले स्थान पर काबिज बांग्लादेश का औसत 27.3 है. इससे अंदाजा लग रहा है कि पाकिस्तान की गेंदबाजी खोखली है और बाबर आजम अपनी बॉलिंग के मजबूत होने का लाख दावा करें हकीकत इससे उलट है. कम से कम पिछले 4 साल में पाकिस्तान के स्पिन गेंदबाजों का प्रदर्शन तो ऐसा ही इशारा कर रहा.

Tags: Afghanistan, Asia cup, Babar Azam, Bangladesh, PAK vs AFG, Pakistan, Shadab Khan

[ad_2]

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*